Category: Shayari

Shayari
himankbhardwaz

Dil Jalaa Hai

Dil Jalaa Hai ज़िंदगी अब, भरोसे के क़ाबिल नहीं है.. मौत का आईना देखता हूं, दिल जला है.. मेरा इस कदर भी, तख्तियों पे तमाशा

Read More »

Haste – Haste

“Haste-Haste” तुझे जाना है तो जा…दिल लगाकर, रह लेंगे बिना तेरे हंसते-हंसते, सह लेंगे एक और दर्द…मुस्कुराकर, जी लेंगे बिना तेरे हंसते-हंसते, Himank BhardwaZ

Read More »

KOSHISH

Koshish छोटी सी कोशिश है…..आसमान को छूने की, दरिया में समुंदर के किनारों को…. डुबोने की, हमने भी रख दी है…..सारी ज़िन्दगी दांव पर, देखना

Read More »